RSS

परमपूज्य बा का साधकों के लिए संदेश

03 फरवरी

                                                                                                                                                   

परमपूज्य प्रभु बा ने अपने ५०वे जन्मदिनपर अपने साधक एवं भक्तजनोंको दिया हुआ संदेशः

साधिका संजना प्रभाकर का ऋणनिर्देश करना जरूरी है, उन्होंने यह अमूल्य रत्न इस संस्थल के लिए

सौंप दिया|

“हे मेरे प्रिय साधक…अपना सिद्धमार्ग प्रेम, दया, क्षमा, शांती और सहनशक्ती इनका पवित्र संगम है| इन गुणोंमें वृद्धि, मान , प्रगती है| इसलिए इन गुणोंका विकास करना| ईर्षा, द्वेष, मत्सर और बदलेकी भावना यह तुम्हारे दुष्मन है| ईर्षा दिमग है| द्वेष लाखका घर है| मत्सर तेल है| बदले की भावना अंगार है| इन दुर्गुणोंका मिलाप होतेही एक क्षणमें सब जलकर राख हो जायेगा| इसलिए इन दुर्गुणोंका त्याग करन

  • व्यर्थ अपलाप न करना| उससे शक्तीका र्‍हास होता है|

  • किसीकी निंदा मत करना| उससे दूसरेका पाप तुम्हारे सिरपर आता है|

  • कामचोर मत बनना| उसमें गुरुसेवामें बाधा होती है|

  • आलसी मत बनना| उससे साधनामें विघ्न आते है|

  • सभीको प्रेम देना|

  • किसीके मनको मत दुखाना|उससे तुम्हारी साधना फलद्रूप होगी|

  • शुद्ध और पवित्र आचरण रखकर हमेशा निती-नियमोंका पालन करना|

  • गुरुआज्ञा यह सिद्धमार्ग का प्राण है|इसका तुरंत पालन करना|

  • तर्क, संशय और शंका इनको दूर रखना| यह श्रद्धामें बाधा है|

मेरे जनमदिन पर आप मुझे वचन देना की जीवनभर आप इस संदेश का पालन करेंगे|  सभीको मेरा आशीर्वाद, प्रेम और जय श्रीकृष्ण|

——back to सद्गुरुसंदेश

       back to Guruvanee



Advertisements
 

One response to “परमपूज्य बा का साधकों के लिए संदेश

  1. abhinav pandya

    फ़रवरी 3, 2011 at 8:23 पूर्वाह्न

    pba’s views are so simple and beautiful..the message captures the essence of human existence.

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: