RSS

भगवान सत्यनारायण की आरती

23 फरवरी

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा।

सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा ॥ जय लक्ष्मी..

रत्न जडि़त सिंहासन अद्भुत छवि राजै।

नारद करत निरंजन, घण्टा ध्वनि बाजै ॥ जय लक्ष्मी..

प्रगट भये कलि कारण, द्विज को दर्श दियो।

बूढ़ो ब्राह्मण बनकर, कञ्चन महल कियो ॥ जय लक्ष्मी..

दुर्बल भील कराल, जिन पर कृपा करी।

चन्द्रचूड़ एक राजा तिनकी विपत्ति हरी ॥ जय लक्ष्मी..

वैश्य मनोरथ पायो, श्रद्धा तज दीनी।

सो फल भोग्यो प्रभु जी, फिर-स्तुति कीन्हीं ॥ जय लक्ष्मी..

भाव भक्ति के कारण, छिन-छिन रूप धरयो।

श्रद्धा धारण कीनी, तिनको काज सरयो ॥ जय लक्ष्मी..

ग्वाल बाल संग राजा, वन में भक्ति करी।

मनवांछित फल दीन्हा, दीनदयाल हरी ॥ जय लक्ष्मी..

चढ़त प्रसाद सवायो, कदली फल मेवा।

धूप दीप तुलसी से राजी सत्य देवा ॥ जय लक्ष्मी..

श्री सत्यनारायण जी की आरती, जो कोई नर गावै।

कहत शिवानन्द स्वामी, मनवांछित फल पावै ॥ जय लक्ष्मी..

back toStotra

back to आरती संग्रह

Advertisements
 

टैग:

One response to “भगवान सत्यनारायण की आरती

  1. pankaj2011patel

    जुलाई 22, 2011 at 9:54 अपराह्न

    nessasary arati of god satyanarayan

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: