RSS

सद्गुरु और सद्शिष्यों के नाम

03 जनवरी

श्रीसद्गुरु शरणं मम। सात जनवरी मेरे जीवन का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण दिन है। इस दिन सद्गुरु गुळवणीजी महाराज की कृपा ने मेरा रोम-रोम भक्ति, शक्ति और साधना की त्रिवेणी में नहला दिया था। मुझे संकल्प दीक्षा देकर एक नया अर्थ, नई दिशा, नया नाम और नया जन्म ही प्रदान कर दिया। मैं सद्गुरु की महिमा कैसे गाऊँ? मेरी दशा तो गिरा अनयन, नयन बिनुं बानी वाली है। हाँ, मैं इतना अवश्य कह सकती हूँ कि मेरे जीवन से सद्गुरु शब्द को विलोपित करने का तात्पर्य है मेरा सर्वस्व छिन जाना है, मेरा अस्तित्वविहीन हो जाना है।

गत 34 वर्षों से वे हरपल मेरे साथ हैं उनकी अनुभूति मुझे हर सांस में होती है। उनकी छत्रछाया ने मुझे जीवनीशक्ति दी है। एक बार उन्होंने मेरी अँगुली जो गही तो आज तक ग्रहण किए हुए हैं। इस अवधि में अनेक उतार-चढ़ाव आए, कई परिजन मिले-बिछुड़े, संकट के बादलों और पीर के ताप ने आक्रांत करने का प्रयास किया पर मैं तो सद्गुरुदेव की गोद में रही अत: आँच आने का प्रश्न ही नहीं था। उन्होंने हरक्षण मुझे अपनी पलकों पर बिठाया, राह के काँटों को पथ से हटाकर फ़ूलों की सेज बिछा दी, यद्यपि वे स्थूल रूप में विद्यमान नहीं हैं, पर ऐसा तो कभी लगा ही नहीं क्योंकि ध्यान में, मानसपूजा में या अन्य अवस्था में सदैव संकेतों से मुझे समझाते-सहलाते रहे हैं। वे सचमुच सर्वव्यापी हैं, साक्षात हैं, त्रिकालदर्शी हैं, परब्रह्म हैं, साक्षात शिव ही हैं। और सबसे अहम बात है कि वे भक्तवत्सल एवं भक्तानुगामी हैं ।

गुरुवर, आज मैं जो कुछ भी हूँ वह आपका ही प्रताप है। वैसे मैं कुछ हूँ भी नहीं, न कुछ कर सकती हूँ, न कुछ करा सकती हूँ, बस आपका दिया गया प्रसाद रूप नाम जपती हूँ। आपके दर्शाए मार्ग पर चलना, आपका सिखाया ध्यान करना, आपके संकेतों के आधार पर जीवनयापन करना, बस यही जीवन है। जो भी घट रहा है उसके कर्त्ता केवल आप हैं। मेरा तो नाम है, काम सब आपका है। आप नियंता है पर अदृश्य हैं, मेरा ध्यान, जप, भजन, श्वास सब आप हैं पर अलख हैं। ऐसे अनंत ब्रह्माण्डनायक, राजाधिराज, योगीराज के श्रीचरणों में बारम्बार वंदना।

सबकुछ दिया है आपने, मेरा क्या है नाथ।
नमस्कार की भेंट है, जोडूं दोनों हाथ।

आपकी अपनी सुगंधा

(आपका ही दिया हुआ नाम)

शिवप्रवाह डिसें 07.

Advertisements
 

टैग:

3 responses to “सद्गुरु और सद्शिष्यों के नाम

  1. Mahesh Vithal Nevrikar

    अगस्त 23, 2016 at 8:55 पूर्वाह्न

    Very nice this website. Param Pujya Baa ko mera shat shat naman.

     
  2. AJAY

    फ़रवरी 12, 2015 at 7:51 अपराह्न

    NAMASKAR KI BHET KARU MAI, JODU DONO HAATH.

     
  3. Rani

    जनवरी 3, 2012 at 3:20 अपराह्न

    Nice layout pic too ! thanks !

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: