RSS

सद्गुरु का अवतरण

28 फरवरी

Baa Photo021

जब साधक किसी अनहोनी से गुजरता है,
निराशा के बादलों की ओट से संत्रास का अंधेरा उतरता है।
सभी आशाएं ध्वस्त हो जाती हैं, आशंकाएं खूब डराती है।
तब बेबस होकर वह डाल देता है हथियार, हो जाता है लाचार।
तभी यकायक एक प्रकाश कौंधता है और
समस्याओं का होने लगता क्षरण है, यही तो सद्गुरु का अवतरण है।

जिन्दगी कई ऐसे अवसर दिखाती है, जब बुद्धि निर्णय नहीं ले पाती हैं।
साधक ऊहापोह के दलदल में धंसते हुए अपने हाथ-पैर मारता है,
अपने आप पर अपनी खीझ उतारता है।
तभी यकायक महसूस होता है एक सहारा
सद्मार्ग की ओर बढ़ने लगते चरण है, यही तो सद्गुरु का अवतरण है।

साधक सजगता से साधन में लग जाता है,
किन्तु कई बार पूरे प्रयास के बाद भी एक कदम तक नहीं चल पाता है।
चित्त व्याकुल होकर इधर-उधर भगता है।
तभी यकायक एक नीलबिन्दु जगमगाता है
और स्वयमेव होने लगता पुनश्चरण है, यही तो सद्गुरु का अवतरण है।

यानी जब-जब संकट आते हैं,
संकटमोचक गुरु प्रकट हो जाते हैं।
पर मेरे प्रभु बा तो इससे लाख गुणा आगे हैं,
जो इनकी गहराई नहीं जान पाए
वे इस युग में सचमुच अभागे हैं।
ये शरीर, मन या साधन के लिए ही नहीं,
हर मोड़ पर साधक के साथ होते हैं,
प्रेम की अखण्ड धार से उसे पूरा भिगोते हैं।
साधक की शक्ति जगाकर करते हैं ऐसे ऐसे चमत्कार
कि करते हुए तो साधक दिखता है
पर सचमुच में करते हैं सद्गुरु सरकार।

तभी यकायक ध्यान आता है,
ऐसे तो यहां हर साधक के अनुभूत अनगिन उदाहरण है,
विश्वास करके देखें, हर क्षण,
हरेक के लिए उपलब्ध रहता
मेरे सद्गुरु का करुणामय अवतरण है।

(संकल्प दिवस पर व. राव द्वारा समर्पित)

Advertisements
 
टिप्पणी करे

Posted by on फ़रवरी 28, 2014 in नवीन

 

टैग: ,

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: