RSS

सद्गुरुसंदेश

परमपूज्य प्रभु बा के विचार–

१. प्रवचन—— मराठी , हिंदी

२. दीक्षा दिन के उपलक्ष्य पर प्रभु बा का मनोगत-1

३. परमपूज्य बा का साधकों के लिए संदेश

४. दीक्षा दिन के उपलक्ष्यपर प. पू. प्रभु बा का मनोगत-२

५. दीक्षा

६.मंत्र – जाप की महिमा

७. सद्गुरु का संदेश

८. मेरे साधक तुम दीपक हो

९. अखण्ड नाम जप महिमा

१०. आओ अंतर्यात्रा करें |

११. सद्गुरु और अनुभव

१२. ध्यान

१३.जल में कुंभ, कुंभ में जल है|

१४.

१५.मन मंदिर में उज्ज्वल हो तेरा निर्मल ज्ञान

१६.गहरा गहरा ध्यान करो|

१७.“बा” का प्रसाद

१८. नवाह्न अनुष्ठान – रूपरेखा

१९. धारणा का स्वरूप

२०. मंत्र जाप मम दृढ़ विश्वासा

२१. नवरात्रि का योगार्थ

२२. हमें तुम मिल गए सद्गुरु!

२३.आश्रम तो मानसरोवर है।

२४. प्रिय साधक: अप्प दीपो भव

२५. सद्गुरुदेव द्वारा दीपावली की शुभकामना

२६. ईश्वर चर्चा से नहीं साधना से मिलता है ।–दीक्षा दिन पर मनोगत.

२७. सद्गुरु और सद्शिष्यों के नाम

२८.

२९. साधन पथ सांप-सीढ़ी खेल जैसा है।

Advertisements
 

2 responses to “सद्गुरुसंदेश

  1. dushyant Pathak

    जनवरी 19, 2013 at 3:55 पूर्वाह्न

    jai shree krishna……..

     
  2. Shekhar Pathak

    नवम्बर 5, 2011 at 5:51 पूर्वाह्न

    “Jay Shri Krishna”
    “Sadgurunath Maharaj Ki Jay”
    “Guru Ki Fauj Kare Mauj”

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: