RSS

Literature

साहित्य

इस विभाग में साधक तथा भक्तों द्वारा विरचित कविताएँ और लेख पढने के लिए उपलब्ध है|

१. गुरुस्साक्षात् परब्रह्म |-रेणु कौशिक

२. सद्गुरु –सूरज का संकल्प-वरदीचन्द राव.

३.भाव-बिन्दु…डॉ. आभा पाल.

४. दीक्षा- वरदीचन्द राव.

५. प्रभु बा – डॉ. आभा पाल विरचित कविता.

६. वे कृष्ण में रहती हैं |- अभिनव पंड्या.

७. संकल्प – श्री वरदीचन्द राव.

८.  She lives in Krishna – Shree Abhinav Pandya.

९.  अखंड स्नेह स्रोतस्विनी को नमन – श्री. वरदीचन्द राव.

१०.संकल्प दिवस पर शुभकामनाएँ– रेणू कौशिक

११. जन्मदिन बहुत मंगलमय हो | —मधुलिका सिंघ

१२.हृदय तुम्हारा बहता जल है ।- वरदीचंद राव.

१३.मैंने शिव चलते देखा है ….व. राव.

१४. गुरुचरणी शरण आलो रे…!

१५.

१६. मेरा सद्गुरु शिव..श्री. वरदीचंद राव.

१७. सद्गुरु का प्रसाददान…श्री. वरदीचंद राव.

१८.

अपनी बात

‘शिवप्रवाह’ इस ‘मासिक’ प्रकाशन के संपादक  श्री वरदीचन्द राव हिंदी के एक जाने माने लेखक है|

अपना संपादकीय वे ‘अपनी बात’ इस शीर्षक के अंतर्गत लिखते आये है|

उसका संकलन आपको इस विभाग में पढने के लिए उपलब्ध है |

१.

२.गुरुरेको जगति त्राता-

दीक्षा-

४.भावातीतं त्रिगुणरहितं सद्गुरुं तं नमामि| –

५. विश्वास और प्रयास

६. पते की बात

७. बात तो तभी बनेगी

८. उद्धरेत् आत्मना आत्मानम् |

९. मन्त्रमूलं गुरोर्वाक्यम् |

१०. सौ बातों की एक बात

११. जानने की बात

१२. श्रद्धावान् लभते ज्ञानम् |

१३. मत चूके चौहान

१४. अध्यात्म और विज्ञान

१५.गुरु तुम अंतर्यामी |

१६.तेरा साईं तुझ ही में है, जाग सके तो जाग–व. राव.

१७.मानो और जानो…। व. राव.

१८ .सहारा हो तो ऐसा हो।

१९. शक्ति पर्व नवरात्र

२०. इतनी शक्ति हमें देना दाता..|

२१. शक्ति के दो आयाम

२२. ज्योतिकलश छलके ।

२३. दीपावली

२४. दीक्षा दिवस….

२५. सद्गुरु का आभार

अवतार कार्य

प्रभु बा एक ईश्वरीय शक्ती है। उनके  कार्य का स्वरूपवर्णन इस विभाग में पढने के लिए उपलब्ध है ॥

1 Guru Parampara (tradition): Brief Introduction-

Translated by  Mr. Sameer Deshapande.–(English)

(Read in Hindi)

2 Parampujya Paramhansa Swami Sugandheshwaranand

Rajyogi “Prabhu Baa”–by Sadhak Parivaar

३. शक्तिपात साधना की महादेवी: प्रभु बा : श्री. विनय त्रिवेदी.

वागीश्वरी–वागीश्वरी–संस्थल की भूमिका.

जय शारदे वागीश्वरी – कविता यहॉं सुनिये

जय शारदे वागीश्वरी – कविता यहाँ पढिये

वागीश्वरी (मराठी)

वागीश्वरी (हिंदी)

Advertisements
 

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: